– Shrey Arya

Home » कहीं सेलेक्टर्स की नजरअदाज़गी से खत्म न हो जाए इस खिलाड़ी का करियर

साउथ अफ्रीका सीरीज़ के खत्म होने के बाद अब टीम इंडिया को आयरलैंड के खिलाफ 26 जून और 28 जून को दो मैचों की टी20 सीरीज खेलनी है. इस दौरे के लिए IPL 2022 के विजेता कप्तान हार्दिक पांड्या को कप्तान बनाया गया है. लेकिन कहीं न कहीं तमाम लोगों का मानना है कि इस सीरीज के लिए टीम इंडिया के सेलेक्शन में बड़ी चूक देखने को मिली है. सेलेक्टर्स की तरफ से रोहित शर्मा की तरह एक विस्फोटक बल्लेबाज को आयरलैंड के खिलाफ सीरीज के लिए टीम इंडिया में मौका नहीं दिया गया है. 

क्यों बन्द है Team India के दरवाज़े ?

टीम इंडिया (Team India) के एक खिलाड़ी का करियर पर अब 22 साल की उम्र में ही थोड़ा बहुत खतरे में नजर आ रहा है. सेलेक्टर्स लगातार इस खिलाड़ी को नजरअंदाज कर रहे हैं. अब तो हर सीरीज में ये खिलाड़ी टीम इंडिया से बाहर रहता है.  वैसे यह खिलाड़ी और कोई नहीं बल्कि टीम इंडिया के विस्फोटक ओपनर पृथ्वी शॉ हैं. पृथ्वी शॉ को आयरलैंड के खिलाफ दो मैचों की टी20 सीरीज के लिए टीम इंडिया में मौका नहीं दिया गया. जिस तरह से तमाम युवा चेहरों को इस दौरे पर भेजा गया था उसे देखकर तो यही लग रहा था कि उन्हें भी टीम का हिस्सा बनाया जाएगा, लेकिन सेलेक्टर्स ने ऐसा नही किया.

रोहित शर्मा जैसा खतरनाक है यह बल्लेबाज

सेलेक्टर्स पृथ्वी शॉ जैसे ताबड़तोड़ ओपनर को लगातार नजरअंदाज करते आ रहे हैं. पृथ्वी शॉ मौजूदा समय में दुनिया के सबसे खतरनाक युवा बल्लेबाजों में से एक हैं. पृथ्वी शॉ को सेलेक्टर्स लगातार बाहर रख रहे हैं. आने वाले दिनों में टीम इंडिया को एक नए ओपनिंग बल्लेबाज की जरूरत होगी. ये जिम्मा युवा बल्लेबाज पृथ्वी शॉ संभाल सकते हैं. शॉ के बल्ले ने घरेलू और आईपीएल में जो सनसनी फैलाई है उसकी गूंज पूरी दुनिया ने सुनी है. सिर्फ 22 साल का ये बल्लेबाज टीम इंडिया का भविष्य है. उनकी बल्लेबाजी ने हर किसी का दिल जीता है. 

सचिन-सहवाग से भी की जाती है तुलना 

पृथ्वी शॉ (Prithvi Shaw) की ताबड़तोड़ बल्लेबाजी के सभी मुरीद हैं इसीलिए इस खेल में उनकी तुलना पूर्व विस्फोटक ओपनर वीरेंद्र सहवाग और महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर की जाती है, लोगों का मानना है कि उनमें इस दोनों की झलक देखने को मिलती है. पृथ्वी शॉ की बैटिंग के अंदाज में सचिन तेंदुलकर और वीरेंद्र सहवाग का कॉम्बो देखने को मिला है. सचिन तेंदुलकर और वीरेंद्र सहवाग भी शुरुआत के ओवरों से तहलका मचाते थे और जमकर रन लूटते थे. बता दें कि भारत के पूर्व कोच रवि शास्त्री कह चुके हैं कि पृथ्वी शॉ में सहवाग, सचिन और लारा की झलक दिखती है. 22 साल के युवा ओपनर पृथ्वी शॉ आक्रामक बल्लेबाज हैं. पृथ्वी बिना किसी डर के जमकर रन लूटते हैं. पृथ्वी शॉ को ज्यादा से ज्यादा मौके मिले तो वह दुनिया के किसी भी कोने में रन बना सकते हैं. 

तीनों फॉर्मेट्स में नही मिल रही जगह 

उनके लिए अभी यह करियर की शुरुआत मात्र है और वह भारत के लिए तीनों ही फॉर्मेट्स में क्रिकेट खेल चुके हैं, लेकिन अब तीनों ही फॉर्मेट्स में उनकी जगह भी छिन गई है. पृथ्वी शॉ ने भारत के लिए 5 टेस्ट मैचों में 339 रन बनाए हैं. पृथ्वी शॉ ने 6 वनडे मैचों में 189 रन बनाए हैं. 63 IPL मैचों में पृथ्वी शॉ ने 1588 रन बनाए हैं. टेस्ट में पृथ्वी शॉ के नाम 1 शतक है. अपने डेब्यु का बाद से ही उनकी तुलना दिग्ग़जों से की जाती रही है, तो अब देखना यही है कि कब जाकर वह एक बार फिर से टीम में वापसी कर पाते हैं. 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

X