अगर एशिया कप और वर्ल्ड कप के लिए केएल राहुल और श्रेयस नहीं तो इनकी जगह कौन ?

Date:

Share post:

टीम इंडिया के पूर्व हैड कोच रवि शास्त्री, पूर्व चयनकर्ता संदीप पाटिल
और एमएसके प्रसाद एशिया कप के लिए केएल राहुल और श्रेयस अय्यर को खिलाने
के पक्ष में नहीं हैं। इनका कहना है कि लम्बे समय से अंतरराष्ट्रीय मैच न
खेलना उनके और टीम के लिए बड़ी परेशानी खड़ी कर सकता है। इसमें कोई दो
राय नहीं कि ये तीनों दिग्गज हैं और इनकी राय भी काफी मायने रखती है। मगर
सवाल यह है कि अगर ये दोनों नहीं तो फिर कौन ?

ईशान किशन, सूर्यकुमार यादव, संजू सैमसन, तिलक वर्मा और यशस्वी जायसवाल
के रूप में टीम इंडिया के पास कुछ विकल्प ज़रूर हैं मगर इन चारों में
सबसे मज़बूत दावा ईशान किशन का है क्योंकि वह अनुभव के साथ-साथ पहले से
अब कहीं ज़्यादा मैच्योर हो चुके हैं। वेस्टइंडीज़ के खिलाफ तीनों वनडे
में शानदार बल्लेबाज़ी से वह न सिर्फ सीरीज़ के बेस्ट खिलाड़ी रहे बल्कि
अपनी कीपिंग में भी उन्होंने काफी सुधार किया है। वह जल्दी विकेट गिरने
पर बड़े शॉट से परहेज करते हुए स्ट्राइक रोटेट करने पर ज़ोर देते हैं और
ज़रूरत पड़ने पर अच्छी खासी स्ट्राइक रेट से बल्लेबाज़ी भी कर सकते हैं।
बांग्लादेश के जिस दौरे में टीम इंडिया वनडे में सिर्फ एक मैच जीती थी,
उसमें ईशान किशन की ताबड़तोड़ डबल सेंचुरी बनाई थी। बैटिंग ऑर्डर को लेकर
उनका लचीला रवैया, बाएं हाथ का बल्लेबाज़ होना और ऋषभ पंत की गैर-मौजूदगी
की काफी हद तक भरपाई करने की क्षमता होना उनके पक्ष में जाता है।
दूसरे दावेदार सूर्यकुमार यादव पर खासकर राहुल द्रविड़ का बहुत भरोसा है।
बेशक वह टी-20 फॉर्मेट में नम्बर वन बल्लेबाज़ हों लेकिन 26 वनडे में
सिर्फ दो ही हाफ सेंचुरी लगा पाए हैं। इस फॉर्मेट में लगातार मौकों के
बावजूद उनकी हालिया असफलता उन पर कई सवाल खड़े करती है। वनडे बेशक टेस्ट
की तुलना में छोटा फॉर्मेट है लेकिन यह इतना छोटा भी नहीं है कि केवल
बड़े शॉट्स पर आप निर्भर हो जाएं। वेस्टइंडीज़ के खिलाफ पहले वनडे में
उन्हें नम्बर तीन पर उतारा गया जहां उन्होंने तीन चौके और एक छक्का लगाया
लेकिन उन्होंने कुल 25 में से 18 डॉट बॉल भी खेलीं। ज़ाहिर है कि वह
लम्बे शॉट्स के लिए जाते हैं। बाकी दोनों वनडे मैचों में उन्होंने नम्बर
छह पर बल्लेबाज़ी की। दूसरे वनडे में उनकी बैटिंग 25वें ओवर में और तीसरे
में 39वें ओवर में आई। उन्हें जहां कम ओवर मिले, वहां उन्होंने अपनी
उपयोगिता दिखाई। मगर दूसरे मैच में वह इसलिए टिककर नहीं खेल पाए क्योंकि
दूसरे छोर पर जडेजा उस समय काफी धीमी बल्लेबाज़ी कर रहे थे। ऐसी स्थिति
तो आगे भी आ सकती है इसलिए बेहतर होगा कि एक तो वह स्ट्राइक रोटेट करने
की आदत डालें और दूसरे ज़रूरत पड़ने पर उन्हें एक रणनीति के तहत
शार्दुल/अक्षर के बाद भी बल्लेबाज़ी के लिए उतारा जा सकता है। साउथ
अफ्रीका लांस क्लूसनर को लेकर 1999 के वर्ल्ड कप में ऐसा प्रयोग कर चुका
है, जो काफी कारगर रहा था।

तिलक वर्मा और यशस्वी जायसवाल बेहद प्रतिभाशाली हैं लेकिन इन्हें वर्ल्ड
कप में खिलाना जोखिम भरा कदम हो सकता है। वैसे भी दोनों अभी तक एक भी
वनडे नहीं खेले हैं। युवा खिलाड़ियों को सबसे बड़े मंच पर बिना तजुर्बे
के उतारने के प्रयोग अभी तक असफल रहे हैं। ऐसे मामलों में मानसिक दृढ़ता
आड़े आती है। अब बचते हैं संजू सैमसन। उनमें भी प्रतिभा की कोई कमी नहीं
है। मगर उनकी भी दिक्कत सूर्य कुमार यादव की तरह बड़े शॉट्स पर केंद्रित
होना है। वह भी स्ट्राइक रोटेट करने पर उतना ध्यान नहीं देते। तीसरे वनडे
में हाफ सेंचुरी के दौरान उनके ऐसे ही बड़े शॉट्स देखने को मिले जबकि
बाकी मौकों पर संजू विकेट फेंकते हुए दिखे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Related articles

गौतम गम्भीर ने कहा – खिलाड़ियों को खेलने चाहिए तीनों फॉर्मेंट

दक्ष अरोड़ा गौतम गंभीर अपने कार्यकाल में कुछ अहम फैसले लेना चाहते हैं। सबसे पहले उन्होंने भारतीय क्रिकेटरों से...

और अब इंडिया Vs पाकिस्तान….इंडिया चैम्पियंस ने सेमीफाइनल में लिया ऑस्ट्रेलिया चैम्पियंस से हार का बदला

नितेश दूबे इंडिया चैम्पियंस ने ऑस्ट्रेलिया चैम्पियंस को 86 रन से हराकर न सिर्फ लीग मुक़ाबले में अपनी हार...

रिंकू सिंह ने रचा इतिहास, तोड़ा रवींद्र जडेजा का रिकॉर्ड

भारतीय क्रिकेट में एक नया इतिहास रचते हुए रिंकू सिंह ने अपने टी20 करियर में एक अनोखा कारनामा...

PAK चैम्पियंस की टीम WI चैम्पियंस पर एक और जीत के साथ फाइनल में

नितेश दूबे cवेस्ट इंडीज चैम्पियंस ने टॉस जीत कर पहले गेंदबाज़ी करने का फ़ैसला किया जिसके बाद पाकिस्तान चैम्पियंस...