ऑस्ट्रेलिया ने दिखाया कि पूरी टीम उपलब्ध होगी तो दिखेगा उसका पेशेवर रुख

Date:

Share post:

राजकोट में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेला गया तीसरा और अंतिम वनडे मैच बेशक वर्ल्ड कप से पहले की आखिरी रिहर्सल हो लेकिन ऑस्ट्रेलिया ने साबित कर दिया कि उसके वर्ल्ड कप के दावे को लगातार पांच मैच हारने के बावजूद खारिज नहीं किया जा सकता। ऑस्ट्रेलिया ने दिखा दिया कि आखिर क्यों उसकी गणना पेशेवर टीम के रूप में की जाती है।

ऑस्ट्रेलिया ही है जो पांच बार वर्ल्ड कप का खिताब जीत चुकी है। यहां पांच मैच हारने के बाद उसने मैच जीता और जिसने उसके टॉप ऑर्डर की बल्लेबाज़ी को देखा, वह उसका कायल हो गया। क्या वॉर्नर और क्या मिचेल मार्श, दोनों ने अपनी शानदार बल्लेबाज़ी से सबका दिल जीत लिया। इतना ही नहीं, वॉर्नर ने लगातार तीसरी हाफ सेंचुरी लगाकर अपनी अच्छी फॉर्म का परिचय दिया। चिंता इस बात को थी कि इन दोनों बल्लेबाज़ों ने भारत के दो फ्रंटलाइन गेंदबाज़ों – जसप्रीत बुमराह और मोहम्मद सीराज को नई गेंद से बेअसर साबित कर दिया। वॉर्नर ने सीराज के एक ओवर में दो छक्के और एक चौका लगाकर जहां टीम इंडिया को बड़ा आघात पहुंचाया तो वहीं प्रसिद्ध कृष्णा के एक ओवर में तीन चौके और एक छक्का लगाकर अपने दबदबे का इज़हार किया। इसी तरह मिचेल मार्श ने बुमराह को खास तौर पर निशाना बनाया। उनके एक ओवर में दो चौके और एक छक्का और फिर एक अन्य ओवर में तीन चौके और एक छक्का लगाकर हमारे मुख्य स्ट्राइक गेंदबाज़ की कलई खोल दी। वह बात अलग है कि बाद में बुमराह ने दूसरे और तीसरे स्पेल में खासकर अपनी स्लोवर गेंदों से एलेक्स कैरी और लैबुशेन के विकेट चटकाए और मैक्सवेल को सटीक यॉर्कर पर बोल्ड कर दिया। सीराज ने भी स्मिथ को एक सीधी बॉल पर आउट किया जिस पर स्मिथ फ्लिक लगाने से चूक गए। प्रसिद्ध कृष्णा ने वॉर्नर को ऐसी ही धीमी गेंद पर विकेट के पीछे राहुल के हाथों कैच कराया। फिर कुलदीप यादव ने मिचेल मार्श को गुगली के जाल में फंसाया और ग्रीन को सामने खेलने के लिए विवश करके उन्हें पविलियन भेजा।

इस ऑस्ट्रेलिया टीम में ज़्यादातर वह खिलाड़ी थे, जिन्हें इस वर्ल्ड कप की टीम में चुना गया है। तीनों तेज़ फ्रंटलाइन गेंदबाज़ों का लम्बे समय बाद एक साथ खेलने का मतलब यही था कि भारतीय बल्लेबाज़ों को इनके सामने पर्याप्त अभ्यास मिला। यही स्टार्क भारत के खिलाफ पिछली सीरीज में खूब चमके थे, जहां उन्होंने विशाखापत्तनम और मुम्बई में ज़बर्दस्त कहर बरपाया था। तब दोनों मौकों पर उन्होंने शुभमन गिल और सूर्यकुमार यादव को आउट किया। विराट, रोहित और राहुल के भी एक-एक बार विकेट चटकाए। स्मिथ भी अरसे से फिट नहीं थे लेकिन इस सीरीज़ के दूसरे मैच में अच्छी शुरुआत के बावजूद उसे वह हाफ सेंचुरी तक नहीं पहुंचा पाए लेकिन राजकोट में उन्होंने अपने पांच हज़ार रन पूरे किए, वहीं हाफ सेंचुरी लगाकर वर्ल्ड कप से पहले अपनी अच्छी फॉर्म का परिचय भी दिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Related articles

रांची टेस्ट में रविचंद्रन अश्विन ने बनाया बड़ा कीर्तिमान

आयुष राज रांची टेस्ट में रविचंद्रन अश्विन ने इंग्लैंड टीम के खिलाफ अपना 100वां विकेट हासिल किया। इन्होंने सौवें...

~आशीष मिश्रा  WPL 2024 का आगाज आज पिछले सीजन की विजेता मुंबई इंडियंस और दिल्ली कैपिटल्स की भिड़ंत से...

चौथे टेस्ट में चौथे खिलाड़ी ने किया डेब्यू, बंगाल के तेज गेंदबाज आकाश दीप को मिला हेड कोच राहुल के हाथों से डेब्यू कैप

भारत और इंग्लैंड के बीच चौथे टेस्ट में चौथा खिलाड़ी डेब्यू कर चुका है। बंगाल के तेज गेंदबाज...

कैसी है रांची की पिच, क्या भारत अतिरिक्त स्पिनर को शामिल करेगा

रांची टेस्ट से पहले भारत और इंग्लैंड खेमे में ये हलचल है कि आखिरकार यहां की पिच कैसी...