बड़े नामों की गैर-मौजूदगी में रिंकू और जीतेश के पास सुनहरा मौका

Date:

Share post:

भारत साउथ अफ्रीका के खिलाफ रविवार से तीन टी-20 मैचों की सीरीज खेलने उतरेगा। टी-20 वर्ल्ड कप अगले साल जून होने वाला है जिसे देखते हुए कई खिलाड़ियों के लिए यह सीरीज कई मायनों में महत्त्वपूर्ण है। खासकर दो युवा फीनिशर जीतेश शर्मा और रिंकू सिंह के लिए।

आइपीएल में दोनों बल्लेबाजों ने अपनी-अपनी टीमों के लिए कई मैच जीताएं हैं और डेथ ओवरों में धुआंधार बैटिंग भी की है। पहली ही गेंद से बाउंड्री तलाशने वाले दोनों बल्लेबाज अपनी-अपनी छाप छोड़ने का प्रयास करते दिखेंगे। भारतीय बल्लेबाजी में अभी भी फीनिशर की कमी है। ऐसे खिलाड़ी जो सेट होने के लिए ज्यादा गेंदों का सामना न करें और पहली ही गेंद से आक्रामक अंदाज में बैटिंग करें। साउथ अफ्रीका सीरीज में बड़े नामों की गैर-मौजूदगी रिंकू और जीतेश दोनों के लिए एक सुनहरा मौका लेकर आई है।

जीतेश शर्मा

इस विकेटकीपर-बल्लेबाज के बारे में एक जबरदस्त आंकड़ा आया है कि  आईपीएल 2023 के दौरान,  वह 2021 के बाद से टी-20 क्रिकेट में 30 गेंदों से कम की पारी में तीसरे सबसे तेज स्ट्राइक रेट के साथ बैटिंग करते थे। केवल दो बल्लेबाज 150 से अधिक की स्ट्राइक रेट से, उनसे अधिक बार 30 या उससे अधिक का स्कोर बनाने में सफल रहे। टी-20 फॉर्मेट में चेज करते हुए किसी ने भी जीतेश शर्मा के 194 के स्ट्राइक रेट के बराबर या इससे तेज से रन नहीं बनाए हैं। नंबर 4 के बाद किसी भी बैटिंग पोजीशन में जीतेश का स्ट्राइक रेट 177 और औसत 37 का  है।

रिंकू सिंह

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेली गई सीरीज में रिंकू ने दिखाया है कि जो काम वह आइपीएल में केकेआर के लिए करते हैं, वही काम वह अपनी नेशनल टीम के लिए भी बार-बार कर सकते हैं।आइपीएल में उनका औसत 36 और स्ट्राइक रेट 142 का है जबकि घरेलू टी-20 में 42 के औसत और 145 के स्ट्राइक रेट से बैटिंग करते हैं। बाएं हाथ का होने के कारण वह टीम के बैटिंग ऑर्डर में विविधता भी लाते हैं। दस अंतरराष्ट्रीय टी-20 मैचों के बाद रिंकू का स्ट्राइक रेट 188 का है।

आइपीएल में एक- दो सीजन की सफलता के आधार पर तुरंत अंतरराष्ट्रीय टीम में कुछ खिलाड़ियों के सिलेक्शन पर सवाल उठे थे। मैनेजमेंट भी किसी नए चेहरों को वर्ल्ड कप जैसे टूर्नामेंट में उतारने का जोखिम नहीं लेगा। टी-20 वर्ल्ड कप से पहले भारत मात्र छह मैच ही खेलेगा और इतने कम मुकाबलों को देखते हुए रिंकू और जीतेश के लिए यह सीरीज इसलिए भी अहम हो जाती है कि सीरीज दर सीरीज अच्छा प्रदर्शन उनको वर्ल्ड कप की रेस में बनाए रखेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Related articles

धर्मशाला टेस्ट के लिए जसप्रीत बुमराह की टीम इंडिया में वापसी

आयुष राज बीसीसीआई ने सात मार्च से शुरू होने वाले इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज के अंतिम टेस्ट के...

वेलिंगटन में पहले टेस्ट के पहले दिन कैमरून ग्रीन ने जड़ी सेंचुरी

आयुष राज वेलिंगटन में न्यूजीलैंड के खिलाफ पहले क्रिकेट टेस्ट के पहले दिन कैमरून ग्रीन ने 155 गेंदों का...

न्यूज़ीलैंड ने पहले ही दिन चटका लिए ऑस्ट्रेलिया के नौ विकेट

~आशीष मिश्रा वेलिंगटन में खेले जा रहे न्यूजीलैंड और ऑस्ट्रेलिया के बीच पहले टेस्ट मैच का पहला दिन मेहमान...

धर्मशाला में यशस्वी विराट और गावसकर के रिकॉर्डों को छोड़ सकते हैं पीछे

यशस्वी जायसवाल छोटी उम्र का बड़ा खिलाड़ी बनने की ओर अग्रसर हैं। वह रांची में विराट के एक...