Team India के स्टार को सज़ा ! फॉर्म के बाद भी नहीं मिल रही जगह…

Date:

Share post:

– Shrey Arya

टेस्ट मैच में हार के बाद जिस तरह से टीम इंडिया ने कप्तान रोहित की अगुआई में वापसी की है उसे देख कर सभी उनकी वाह वाही कर रहे हैं. कोविड से वापसी के बाद जिस तरह से पहले ही मैच में रोहित ने अपने बल्ले का दम दिखाया उसे देख कर सभी की आंखे चमक गयीं हैं. हर कोई हिटमैन को इसी इंटेंट के साथ बल्लेबाज़ी करते देखना चाहता है. भारतीय टीम ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए इंग्लैंड के सामने 199 रनों का लक्ष्य रखा, जिसके जवाब में इंग्लैंड की टीम महज 148 रन ही बना पाई. इस टीम के लिए जीत के हीरो बनकर सामने आये स्टार आल राउंडर हार्दिक पांड्या. लेकिन टीम में एक ऐसा खिलाड़ी भी है जो अच्छी फॉर्म के बाद भी जगह तलाश रहा है.

फॉर्म के बाद भी नही मिल रहा सम्मान

इंग्लैंड के खिलाफ पहले टी20 में टीम इंडिया पहले बल्लेबाजी करने उतरी. टीम के कप्तान रोहित शर्मा ने इस मैच की प्लेइंग XI में एक बड़ा फैसला लिया. रोहित शर्मा ने इस मैच में एक ऐसे विस्फोटक बल्लेबाज को मौका नहीं दिया जो काफी शानदार फॉर्म में चल रहा था. इस खिलाड़ी ने हाल ही में आयरलैंड के खिलाफ विस्फोटक पारी खेलकर सेलेक्टर्स का ध्यान अपनी ओर खींचा था. आयरलैंड के खिलाफ दूसरे मैच में बतौर ओपनर संजू सैमसन को शामिल किया गया था. संजू सैमसन ने इस मुकाबले में एक मैच विनिंग पारी खेली थी, वे टीम के लिए दूसरे सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज रहे थे. लेकिन रोहित शर्मा ने संजू सैमसन को पहले मैच में मौका नहीं दिया.

बल्ले से संजू रहे शानदार

रोहित का ये फैसला काफी चौंकाने वाला रहा. संजू सैमसन ने आयरलैंड के खिलाफ बतौर ओपनर खेलते हुए 42 गेंदों पर 77 रन बनाए थे. उन्होंने 183.33 की स्ट्राइक रेट से खेलते हुए 9 चौके और 4 छक्के जड़े. संजू सैमसन के करियर का ये पहला अर्धशतक भी था. इस शानदार फॉर्म के बाद भी उन्हें टीम से बाहर बैठना पड़ा उसी वजह से सभी हैरान थे. रोहित ने इसकी वजह वर्क लोड मैनेजमेंट को बताया. संजू सैमसन ने अभी तक भारत के लिए 15 मैच खेले हैं, जिसमें उन्होंने 21.21 की औसत से 297 रन बनाए हैं. संजू ने अपना डेब्यू मैच साल 2015 में खेला था, लेकिन वे टीम इंडिया में कुछ ज्यादा खास प्रदर्शन नहीं कर सके हैं. संजू सैमसन लगातार टीम का हिस्सा बनने में नाकाम रहते है. उन्हें प्लेइंग XI में भी कम मौके मिले हैं, ऐसे में इस मैच में उनके खेलने की सबसे ज्यादा उम्मीद थी. फिलहाल तो देखना यही है कि आने वाले वक्त में अब कब जाकर उन्हें टीम में एक बार फिर से मौका मिलता है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Related articles

भारत में लाल गेंद से महिला घरेलू क्रिकेट फिर से शुरू किया जाएगा

आयुष राज महिलाओं के लिए रेड बॉल क्रिकेट छह साल बाद भारत के घरेलू कैलेंडर में वापसी करेगा। बीसीसीआई ने...

पीएसएल के मैच से पहले कराची किंग्स के 13 खिलाड़ी पड़े थे एक साथ बीमार

आयुष राज पाकिस्तान सुपर लीग में 29 फरवरी को कराची किंग्स और क्वेटा ग्लेडिएटर्स के बीच मैच से पहले एक...

पहले टेस्ट का दूसरा दिन रहा ऑस्ट्रेलिया के नाम..कुल बढ़त हुई 217 रनों की

न्यूजीलैंड और ऑस्ट्रेलिया के बीच पहले टेस्ट का दूसरा दिन मेहमानों के नाम रहा। दिन का खेल खत्म...

धर्मशाला टेस्ट के लिए जसप्रीत बुमराह की टीम इंडिया में वापसी

आयुष राज बीसीसीआई ने सात मार्च से शुरू होने वाले इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज के अंतिम टेस्ट के...