टी20 में हीरो और वनडे में ज़ीरो..ऐसा क्यों ?

Date:

Share post:

सूर्यकुमार यादव और उनकी युवा टीम ने टी20 में भारत के सबसे सफल रन-चेज़ के साथ ऑस्ट्रेलिया को हराकर घावों पर मरहम लगाने की पूरी कोशिश की, लेकिन दर्द को कम नहीं कर सके। 19 नवंबर को अहमदाबाद में जो हुआ वह विशाखापत्तनम में जो हुआ उससे कहीं अधिक महत्वपूर्ण था। वर्ल्ड कप फाइनल में हार का घाव गहरा है, खासकर तब जब आप जीत के दावेदार थे। इससे भी अधिक तब जब आपने एक दशक से कोई आईसीसी टूर्नामेंट और 12 साल से अधिक समय से कोई वर्ल्ड कप नहीं जीता हो।

हार्दिक पांड्या की अनुपस्थिति में पहली बार भारत कि कप्तानी कर रहे सूर्या ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पहले टी20 में अलग ही नजर आ रहे थे ऐसा लग ही नहीं रहा था कि यह वही बल्लेबाज है जो वनडे में कुछ दिन पहले रन बनाने के लिए संघर्ष कर रहे था। फॉर्मैट में बदलाव से क्या फर्क पड़ता है ?

फाइनल में अहमदाबाद की धीमी पिच पर संघर्ष करने वाले सूर्या ने डेथ ओवरों में 28 गेंदों में 18 रन बनाए, पहले टी20 में सूर्या ने मैदान के सभी हिस्सों में गेंदबाजों की धुनाई की। उनके 42 गेंदों में से 80 रन ही थी जिसके कारण भारत 209 का पीछा कर सका। रैंप शॉट अच्छी तरह से टाइम किए गए थे, तेज़ स्वीप शॉट ने स्पिनरों को जमने नहीं दिया और बीच में स्ट्राइक रोटेशन भी हुआ। ऐसा लगता है कि टी20 में उनका नियंत्रण है। पिच, विपक्ष, मैच की स्थिति, सब कुछ आसान लगता है जब टी20 में खेलते है। हालाँकि, वनडे में ऐसा कहीं देखने को नहीं मिलता है। वर्ल्ड कप में, इंग्लैंड के खिलाफ मैच को छोड़कर, जहां उन्होंने 47 में से 49 रनों की महत्वपूर्ण पारी खेली, सूर्या के बल्ले से और कुछ नहीं निकला।

किसी एक कारण पर उंगली उठाना मुश्किल है लेकिन परिसतिथि एक बड़ा कारण हो सकता है। टी20 में, दुनिया भर में पिचें काफी हद तक बल्लेबाजी के अनुकूल होती हैं। गेंद बल्ले पर काफी अच्छे से आती है। उछाल बल्लेबाज के लिए अनुकूल होता है। वनडे मैचों में धीमी पिचों पर, उन्हें गति नहीं मिल पाती है।सॉफ्ट गेंद भी अपनी भूमिका निभाती है। टी20 में, सूर्या आम तौर पर तब क्रीज में आते हैं जब गेंद काफी सख्त और नई होती है। हालाँकि, वनडे मैचों में, विशेषकर नंबर 6 पर बल्लेबाजी करते समय, बल्लेबाजी करने की बारी आने पर गेंद सॉफ्ट हो जाती है। टी20 में अधिक बार वह नंबर चार पर खेलने उतरते है। वह अपने हिसाब से बल्लेबाजी कर सकते है रिस्क लेकर क्योंकि उनके आउट होने के बाद भी आने वाले बल्लेबाज होते हो जो बल्लेबाजी कर सकते है। लेकिन वनडे में नंबर छह पर या और नीचे बल्लेबाजी करने के लिए उतरते है जहां अगर आउट होते है तो फिर गेंदबाजों का आना होता है। इसलिए वह स्वतंत्र होकर नहीं खेल पाते है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Related articles

अमेरिका-साउथ अफ्रीका के मैच के साथ ही शुरुआत होगी सुपर 8 के मुक़ाबलों की

पारखी आज से टी-20 वर्ल्ड कप-2024 में सुपर-8 के मुकाबलों का आगाज हो रहा है। इस राउंड का पहला मैच...

सुपर 8 के मैच से पहले अफगानिस्तान और वेस्टइंडीज़ को मिलेगा अच्छा अभ्यास

पारखी अफगानिस्तान के खिलाफ मंगलवार को होने वाले टी-20 वर्ल्ड कप के आखिरी लीग मैच से पहले वेस्टइंडीज के...

श्रीलंका ने डेथ ओवरों की ताबड़तोड़ बल्लेबाज़ी से जीत लिया सबका दिल

पारखी श्रीलंका ने नीदरलैंड के खिलाफ़ मैच में शानदार प्रदर्शन किया और विश्व कप के अपने अंतिम मैच में 83...

गनीमत है कि फ्लोरिडा में एक मैच का रिज़ल्ट आ गया

पारखी नासा काउंटी की पिच से लेकर फ्लोरिडा के मैदान की दुर्दशा तक टी 20 वर्ल्ड कप में जैसा...