1983 और 2011 से भी खतरनाक अंदाज़ है टीम इंडिया का… वाकई दिल जीत लिया इस टीम ने

Date:

Share post:

टीम इंडिया को आम तौर पर शानदार बल्लेबाज़ी के लिए जाना जाता रहा है मगर इस वर्ल्ड कप में हम गेंदबाज़ी में सुपरपॉवर साबित हुए। आलम यह है कि ऑस्ट्रेलिया, पाकिस्तान और इंग्लैंड की टीमें हमारे सामने 200 का आंकड़ा भी नहीं छू पाईं और अब तो लगातार दूसरे मैच में न श्रीलंका और न साउथ
अफ्रीका सौ का आंकड़ा ही छू पाई। बर्थडे बॉय विराट कोहली की यह सेंचुरी खास है और उन्होंने एक बेहद मुश्किल पिच पर वह काम करके टीम को मज़बूत स्थिति में भी पहुंचाया और महान सचिन तेंडुलकर के रिकॉर्ड की भी बराबरी की।

वर्ल्ड कप से पहले मिचेल स्टार्क, जोश हैज़लवुड, शाहीन शाह आफरीदी, ट्रेंट बोल्ट, कागिसो रबाडा और मार्को येनसेन की हर तरफ चर्चा थी मगर बुमराह, शमी और सिराज के तूफानी अंदाज़ के सामने ये सब बौने साबित होने लगे और इन्हें शानदार से सामान्य और सामान्य से अति सामान्य बनने में देर नहीं लगी। शमी को न्यूज़ीलैंड के खिलाफ उतारना टीम इंडिया के लिए मास्टरस्ट्रोक साबित हुआ। उनसे पहले भी टीम जीतती थी मगर उनके आने के बाद टीम चैम्पियन की तरह जीतने लग गई। पहले तीन मैचों में 14 विकेट चटकाने
वाले शमी ने साउथ अफ्रीका के पिछले मैचों के शतकवीरों को पविलियन भेजकर अपने काम को बखूबी अंजाम दिया। उनकी सीम अंदर आई और वान डर डूसेन बाहर गए। इस वर्ल्ड कप में एक समय सबसे तेज़ सेंचुरी जड़ने वाले मार्करम तो उनकी बाहर की ओर सीम होती गेंद के साथ ही बाहर जाने के लिए मजबूर हो गए।
चार सेंचुरी बनाकर क्विंटन डिकॉक की नज़र रोहित शर्मा के एक वर्ल्ड कप में सबसे ज़्यादा पांच सेंचुरी के रिकॉर्ड पर थी लेकिन वह सिराज की कोण लेती गेंद को समझ ही नहीं पाए। सच तो यह है कि क्विंटन डिकॉक और वान डर डूसेन के आउट होने के साथ ही मैच के खत्म होने की औपचारिकता पूरी होती
दिखने लगी।

जडेजा की पहचान एक उपयोगी खिलाड़ी के रुप में आंकी जाती थीं लेकिन वह स्पिन गेंदबाज़ी में इस कदर झंडा गाढ़ देंगे, ऐसा किसी ने शायद ही सोचा होगा। ऐसा खिलाड़ी जिसकी टर्न लेती गेंदें तो खतरनाक थी ही, वहीं उनकी बहुत कम टर्न होने वाली गेंदें उससे भी ज़्यादा खतरनाक साबित हुईं। लगातार दूसरे मैच में हमारे तीन गेंदबाज़ पहले ही ओवर में विकेट चटकाते देखे गए। वहीं यह भी साबित हो गया कि साउथ अफ्रीका पहले बल्लेबाज़ी में ही अपने फन का फनकार है, बाद में उसकी बल्लेबाज़ी क्वालिटी अटैक के सामने
बिखर जाती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Related articles

गौतम गम्भीर ने कहा – खिलाड़ियों को खेलने चाहिए तीनों फॉर्मेंट

दक्ष अरोड़ा गौतम गंभीर अपने कार्यकाल में कुछ अहम फैसले लेना चाहते हैं। सबसे पहले उन्होंने भारतीय क्रिकेटरों से...

और अब इंडिया Vs पाकिस्तान….इंडिया चैम्पियंस ने सेमीफाइनल में लिया ऑस्ट्रेलिया चैम्पियंस से हार का बदला

नितेश दूबे इंडिया चैम्पियंस ने ऑस्ट्रेलिया चैम्पियंस को 86 रन से हराकर न सिर्फ लीग मुक़ाबले में अपनी हार...

रिंकू सिंह ने रचा इतिहास, तोड़ा रवींद्र जडेजा का रिकॉर्ड

भारतीय क्रिकेट में एक नया इतिहास रचते हुए रिंकू सिंह ने अपने टी20 करियर में एक अनोखा कारनामा...

PAK चैम्पियंस की टीम WI चैम्पियंस पर एक और जीत के साथ फाइनल में

नितेश दूबे cवेस्ट इंडीज चैम्पियंस ने टॉस जीत कर पहले गेंदबाज़ी करने का फ़ैसला किया जिसके बाद पाकिस्तान चैम्पियंस...