टीम इंडिया को नहीं मिलने वाला आराम: 12 महिने में लगभग 62 मैच खेलेगी रोहित की टीम, वर्ल्ड कप- एशिया कप सब कुछ दांव पर

Date:

Share post:

– स्पोर्ट्स डेस्क 3rd June :

टीम इंडिया का आने वाले 12 महीनों में काफी व्यस्त कैलेंडर है। रोहित एंड कंपनी को अगले एक साल में करीब 60 मैच खेलने हैं, जिसमें 32 यानी 53% मैच टी-20 हैं। भारतीय इंटरनेशनल क्रिकेट 9 जून से शुरू हो जाएगा, जब टीम को द. अफ्रीका के खिलाफ 5 टी-20 मैच की सीरीज खेलनी है। इसमें दूसरी पंक्ति की भारतीय टीम हिस्सा लेगी। संभवत: वही टीम आयरलैंड के खिलाफ भी दो मैच की टी-20 सीरीज खेलेगी। टीम एक टेस्ट मैच खेलने के लिए इंग्लैंड जाएगी। वहां टीम तीन वनडे और तीन टी-20 मैच भी खेलेगी।
इसके बाद टीम तीन वनडे और पांच टी-20 खेलने के लिए वेस्टइंडीज का दौरा करेगी। फिर दूसरी पंक्ति की टीम 3 वनडे के लिए जिम्बाब्वे टूर पर जाएगी। यह सीरीज वर्ल्ड कप सुपर लीग का हिस्सा होगी। ठीक बाद टीम एशिया कप में खेलेगी। इसके जरिए टीम टी-20 वर्ल्ड कप की तैयारी करेगी। ऐसी भी संभावना है कि एशिया कप के पहले भारत श्रीलंका के खिलाफ दो टी-20 मैच भी खेले। भारत तीन वनडे और तीन टी-20 के लिए द. अफ्रीका की मेजबानी करेगा। मार्च 2020 में यह सीरीज कोविड की वजह से नहीं हुई थी।

टी-20 वर्ल्ड कप के बाद फोकस शिफ्ट, वनडे वर्ल्ड कप की तैयारी करेगी


टी-20 वर्ल्ड कप के बाद भारत वनडे क्रिकेट पर फोकस करेगा क्योंकि अगले साल भारत में ही वर्ल्ड कप होना है। टीम तीन वनडे और तीन टी-20 खेलने न्यूजीलैंड का दौरा करेगी। फिर श्रीलंका के खिलाफ पांच वनडे की मेजबानी करेगी। न्यूजीलैंड तीन वनडे और तीन टी-20 खेलने भारत आएगी। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी होगी।


सलेक्टर्स को चुनौती, सभी खिलाड़ियों का हर प्रारूप नहीं खेलना अच्छी खबर


अगले एक साल में सलेक्टर्स और थिंक-टैंक के सामने हर सीरीज के लिए टीम चुनना बड़ी चुनौती होगी। हालांकि, अच्छी बात यह है कि सभी खिलाड़ी हर प्रारूप में नहीं खेलते हैं। पुजारा, विहारी, केएस भरत, उमेश, अश्विन आैर सिराज सिर्फ टेस्ट का हिस्सा हैं। रोहित, कोहली, पंत, राहुल, बुमराह हर प्रारूप के खिलाड़ी हैं। लेकिन चोट या वर्कलोड मैनेजमंेट के तहत इन खिलाड़ियों को आराम मिलता रहा है। रोहित को मार्च 2020 के बाद से कई बार इंजरी ब्रेक मिला है। पिछले दो साल में कोहली को भी पेटरनिटी ब्रेक, वर्कलोड मैनेजमेंट या सामान्य रेस्ट मिला है। वैसे भी, शुभमन और मयंक अग्रवाल जैसे कई खिलाड़ी टेस्ट टीम में शामिल हो सकते हैं। केवल युवा और अपकमिंग खिलाड़ियों के लिए कैलेंडर कठिन होगा क्योंकि इन खिलाड़ियों को टी-20 द्विपक्षीय सीरीज में सबसे ज्यादा मौके मिलते हैं और भारत को अगले एक साल में सबसे ज्यादा टी-20 मैच ही खेलने हैं। लेकिन ये खिलाड़ी टी-20 के जरिए ही टीम में जगह बना पाते हैं, इसलिए वे इस कैलेंडर का स्वागत करेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Related articles

भारत में लाल गेंद से महिला घरेलू क्रिकेट फिर से शुरू किया जाएगा

आयुष राज महिलाओं के लिए रेड बॉल क्रिकेट छह साल बाद भारत के घरेलू कैलेंडर में वापसी करेगा। बीसीसीआई ने...

पीएसएल के मैच से पहले कराची किंग्स के 13 खिलाड़ी पड़े थे एक साथ बीमार

आयुष राज पाकिस्तान सुपर लीग में 29 फरवरी को कराची किंग्स और क्वेटा ग्लेडिएटर्स के बीच मैच से पहले एक...

पहले टेस्ट का दूसरा दिन रहा ऑस्ट्रेलिया के नाम..कुल बढ़त हुई 217 रनों की

न्यूजीलैंड और ऑस्ट्रेलिया के बीच पहले टेस्ट का दूसरा दिन मेहमानों के नाम रहा। दिन का खेल खत्म...

धर्मशाला टेस्ट के लिए जसप्रीत बुमराह की टीम इंडिया में वापसी

आयुष राज बीसीसीआई ने सात मार्च से शुरू होने वाले इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज के अंतिम टेस्ट के...